वास्तुशास्त्र का वैज्ञानिक रूप है न्यूमरोवास्तु


‘वास्तुशास्त्र का वैज्ञानिक रूप है न्यूमरोवास्तु
”प्राचीन वैदिक ज्ञान पर आधारित वास्तु शास्त्र का आधुनिकतम और पूरी तरह से वैज्ञानिक एवं तर्कसंगत रूप है न्यूमरोवास्तु – कहना है विश्व प्रसिद्ध वास्तु विशेषज्ञ श्री नितिन गुप्ता का जो एक नये घर के वास्तु सम्मत डिजाईन हेतु श्रीगंगानगर में आए हुए हैं। उनसे मिलने के लिए गंगानगर की जानी-मानी हस्तियां आज पैगौड़ा होटल में पहुंची थी।
हैरानी की बात यह थी कि मात्र लोगों की बात सुनकर ही उन्होनें उनके घर के वास्तु दोषों का सटीक आकलन कर दिया। साथ ही अंको के आधार पर उनके जीवन का सम्पूर्ण ब्यौरा उनके सामने रख दिया जिससे वहां मौजूद सब लोग आश्चर्यचकित रह गये। इस दौरान नये एवं पुराने घरों के वास्तु प्रभावों के विषय में पूछे गए कई प्रश्रों के भी उन्होनें पूरी तरह वैज्ञानिक आधार पर उत्तर दिये।


बंद पड़ी हुई बिल्डिंगों के वास्तु कारणों के विषय में पूछे गये पत्रकारों के प्रश्रों का जवाब देते हुए उन्होनें बताया कि ऐसा डिजाईन संबधित वास्तु दोषों एवं कमजोर एनर्जीज के कारण होता है। परन्तु छोटे-छोटे बदलाव एवं आसान से उपायों के द्वारा काफी हद तक इन्हें पुन: उपयोगी बनाया जा सकता है।
न्यूमरोवास्तु व एस्ट्रो-न्यूमरोलॉजी विषयों के संस्थापक श्री नितिन गुप्ता लगभग 21 वर्षों से वास्तु शास्त्र और न्यूमरोलॉजी के विषय में कंसलटेशन और ट्रेनिंग दे रहे हैं। विश्व प्रसिद्ध ‘ॐकार थ्योरी ऑफ नंबर्स के रचयिता नितिन जी दिल्ली विश्वविद्यालय से इलैक्ट्रोनिक्स में गोल्ड मैडलिस्ट हैं। इनके द्वारा किये गये अंक ज्योतिष पर आधारित छोटे व आसान से वास्तु उपायों से विश्वभर में फैले इनके क्लाईंटस के घर, दफतर और फैक्ट्रियों में चमत्कारिक परिणाम मिले हैं।
अधिक जानकारी के लिए 9999457329 पर सम्पर्क किया जा सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.