नागी की लड़ाई, 1971 की स्वर्ण जयंती पर चित्रकला प्रतियोगिता

नागी की लड़ाई, 1971 की स्वर्ण जयंती पर चित्रकला प्रतियोगिता

सुदर्शन चक्र डिवीजन ने नागी के युद्ध में भारत की जीत की 50 वीं वर्षगांठ के लिए विभिन्न औपचारिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करने की तैयारी की है ।

नागी की लड़ाई के दौरान भारतीय सेना के बहादुर सैनिकों की वीरता और बलिदान के बारे में जागरूकता पैदा करने और वीर सैनिकों को सम्मान देने के उद्देश्य से, भारतीय सेना ‘पेंट योर पैट्रियटिज्म’ विषय के साथ एक ऑनलाइन पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है । यह आयोजन 01 से 20 दिसंबर 2021 तक देश भर में प्रविष्टियां प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर आयोजित किया जा रहा है। प्रतियोगिता भारत के सभी नागरिकों के लिए खुली है। यह प्रतियोगिता भारतीय सेना के अपने साथी नागरिकों के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने और नागी सैंड ड्यून्स की महाकाव्य लड़ाई में भारतीय सेना के योगदान को उजागर करने के प्रयासों का एक हिस्सा है।

चयनित पेंटिंग्स का उपयोग भारतीय सेना के आधिकारिक मीडिया हैंडल द्वारा किया जाएगा और आकर्षक पुरस्कारों के साथ उचित श्रेय दिया जाएगा। पेंटिंग प्रतियोगिता के परिणाम 25 दिसंबर 2021 को घोषित किए जाएंगे।

1971 के युद्ध के दौरान, पाकिस्तानी सेना ने भारतीय क्षेत्र में दो किलोमीटर अंदर स्थित नागी के आगे प्रमुख रेत के टीले पर धोखे से कब्जा कर लिया था। पैराशूट रेजिमेंट के बहादुर सैनिकों, बख्तरबंद कोर के एक स्क्वाड्रन और आर्टिलरी की एक बैटरी को रेत के टीलों पर फिर से कब्जा करने का काम सौंपा गया था। दुश्मन के भारी
बमबारी और टैंक फायर के बावज़ूद, हमारे सैनिकों ने बहादुरी से लड़ाई लड़ी और रेत के टीलों पर कब्जा वापस लिया | 21 बहादुर सैनिकों ने नागी की लड़ाई के दौरान भारतीय सेना की सर्वोच्च परंपराओं के अनुसार सर्वोच्च बलिदान दिया था ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.