लेबर कॉलोनी के पट्टों की कानूनी लड़ाई मैं लडूंगा : चांडक

लेबर कॉलोनी के पट्टों की कानूनी लड़ाई मैं लडूंगा : चांडक
11 लाख की लागत से सरकारी स्कूल में बनेंगे दो कमरे
श्रीगंगानगर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चांडक ने कहा कि गरीबी एक अभिशाप है और नेता चुनाव के दौरान तरह तरह की घोषणाएं कर बाद में भूल जाते हैं। वो केवल गरीब की गरीबी का उपहास उड़ाते हैं, लेकिन मैं ऐसा नहीं हूं। जो कहता हूं उसे करके दिखाता हूं। मेरे मुंह से जो बात निकलेगी उसे मैं हर हाल में पूरा करूंगा।

श्री चांडक आज शहर के वार्ड नंबर 3, लेबर कॉलोनी में नागरिकों की एक सभा को संबोधित कर रहे थे।
श्री चांडक ने कहा कि एक गरीब का दर्द क्या होता है इसे मैं इसे भली-भांति समझता हूं। अपनी सीमित आय में वह अपने बच्चों को पढ़ाएं या घर का राशन लाए। एक गरीब जीवन भर इसी उलझन में फंसा रहता है।  हम सब जानते हैं कि पुरानी आबादी लेबर कॉलोनी इलाका गरीब व निम्न आय वर्ग परिवारों का है। शायद इसीलिए इस क्षेत्र में विकास कार्य सबसे कम होते हैं। चुनाव के वक्त तो नेता लोग तरह-तरह के आश्वासन देते हैं और चुनाव जीतने के बाद इधर देखते भी नहीं लेकिन मैं वैसा नहीं हूं। जो कहूंगा उसे पूरा करके दिखाऊंगा। श्री चांडक ने वार्ड नंबर 3 लेबर कॉलोनी स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय के भवन की जर्जर हालत को महसूस किया।  वार्ड वासियों की ओर से बताया गया कि इस विद्यालय में 150 बच्चों की उपस्थिति है और कमरे मात्र दो है। इन कमरों का निर्माण 40 वर्ष पूर्व हुआ था, जिसमें से एक कमरे में बच्चों को बैठाया जाता है और दूसरा स्टाफ रूम में काम लिया जा रहा है। सरकार की ओर से इस विद्यालय की ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया। इस पर श्री चांडक ने कहा कि मैंने पहले भी कहा था की जहां जिस सुविधा की जरूरत हो वहां वह सुविधा पहले उपलब्ध करवानी चाहिए ताकि उस क्षेत्र के नागरिकों की प्रमुख समस्या का समाधान हो सके। आज गरीब परिवारों के लिए इस महंगाई के दौर में बच्चों के शिक्षा और चिकित्सा महत्वपूर्ण है।  इसी के मद्देनजर उन्होंने इस विद्यालय परिसर मे श्रीमती चंद्रकला चांडक परिवार की ओर से 11 लाख रुपए की लागत से दो कमरे निर्माण करवाए जाने की घोषणा की।
वार्ड के नागरिकों द्वारा प्रशासन शहरों के संग अभियान के दौरान लेबर कॉलोनी के पट्ठे बनाए जाने की मांग की गई। इस पर श्री चांडक ने कहा कि जेसीटी मिल की भूमि के स्वामित्व को लेकर उच्च न्यायालय में प्रकरण विचाराधीन है। यह सर्वविदित है कि महाराजा गंगा सिंह द्वारा कपड़ा मिल के लिए मात्र एक रुपए में यह जगह दी गई थी। राजस्व रिकॉर्ड में यह भूमि गोचर भूमि के रूप में दर्ज है। जिसका सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार किसी भी प्रकार से उपयोग परिवर्तन नहीं हो सकता। इसके बावजूद मालूम नहीं किन कारणों के चलते सरकार द्वारा इस भूमिका भू उपयोग परिवर्तन कर दिया गया।
श्री चांडक ने कहा कि इसके बावजूद मैं गरीब के हक की लड़ाई लड़ने को तैयार हूं। लेबर कॉलोनी के प्रत्येक नागरिक को उसके आवास का पट्टा मिले, इसके लिए वे उच्च न्यायालय में केस करने को तैयार हैं। उन्होंने नागरिकों से आह्वान किया कि वह एक कमेटी बनाकर किसी एक व्यक्ति को मेरे पास भेज दे ताकि उच्च न्यायालय में वाद दायर किया जा सके। वहां जितना भी खर्चा होगा, उसे मैं वहन करूंगा। उच्च न्यायालय का फैसला जिस दिन पक्ष में आएगा, उससे अगले दिन नगर परिषद से पट्टे जारी करवा दिए जाएंगे।
इससे पूर्व वार्ड में पहुंचने पर वार्ड पार्षद कुसुम कौशिक व पूर्व पार्षद विनोद कौशिक के नेतृत्व में नागरिकों द्वारा श्री चांडक का भव्य स्वागत किया गया। इस मौके पर  पार्षद जगदीश घोड़ेला , पूर्व पार्षद विनोद जांदू , श्रमिक नेता महेंद्र बागड़ी , अनिल शर्मा आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.