मान लो तो हार है, ठान लो तो जीत है: अंजू अग्रवाल

मान लो तो हार है, ठान लो तो जीत है: अंजू अग्रवाल

टांटिया चैरिटेबल नशा मुक्ति व पुनर्वास केंद्र में ऑर्ट ऑफ लिविंग का शिविर

श्रीगंगानगर। हनुमानगढ़ रोड पर टांटिया यूनिवर्सिटी परिसर में स्थित जे. आर. टांटिया चैरिटेबल नशा मुक्ति एवं पुनर्वास केंद्र में ऑर्ट ऑफ लिविंग के रूरल हेपिनैस प्रोग्राम के अंतर्गत चार दिवसीय प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न हुआ। समापन समारोह में प्रशिक्षिका अंजू अग्रवाल ने कहा कि मान लो तो हार है, ठान लो तो जीत है। उन्होंने केंद्र की ओर से दी जा रही नि:शुल्क सेवाओं की प्रशंसा भी की।

केंद्र के प्रोजक्ट डायरेक्टर डॉ. विकास सचदेवा एवं साइकोलॉजिस्ट-काउंसलर डॉ. मनीष अरोड़ा ने गतिविधियों का ब्यौरा दिया।

डॉ. शशि शर्मा, ऑर्ट ऑफ लिविंग के प्रशिक्षक एवं रीको इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के सचिव सुनील अग्रवाल, साहित्यकार डॉ. कृष्णकुमार आशु, केंद्र के एपीडी राजकुमार जैन ने भी विचार रखे। प्रशिक्षकों का सम्मान भी किया गया। शिविर से लाभ उठाने वाले कई जनों ने अपने अनुभव बताए और कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सकों एवं समर्पित स्टाफ की ओर से दी जा रही नि:शुल्क सेवाओं ने उन्हें सुखद आश्चर्य में डाला है। श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले के लोग ही नहीं पंजाब-हरियाणा के नशा करने वाले भी अनेक विशेषताओं वाले जे.आर. टांटिया चैरिटेबल नशा मुक्ति एवं पुनर्वास केंद्र सेे लाभ उठा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.