संयम और कड़ी मेहनत से ही मिलता है अपेक्षित परिणाम टांटिया यूनिवर्सिटी में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार सम्पन्न

संयम और कड़ी मेहनत से ही मिलता है अपेक्षित परिणाम
टांटिया यूनिवर्सिटी में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार सम्पन्न
श्रीगंगानगर। टांटिया यूनिवर्सिटी में अनुसंधान की नवीन विधियों पर दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार मंगलवार को सम्पन्न हुआ। समापन सत्र के मुख्य अतिथि आबू रोड की माधव यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. गोविन्द सिंह ने कहा कि संयम और कड़ी मेहनत से ही अपेक्षित परिणाम मिलते हैं, शोधार्थी को पूरी लगन के साथ कार्य करना चाहिए। टांटिया यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष प्रो. (डॉ.) एम. एम. सक्सेना ने पीएचडी के महत्व की चर्चा करते हुए कहा कि इसे करने वालों को समर्पित भाव और मनोयोग से शोध करना चाहिए।


विशिष्ट वक्ता डॉ. शिशिर शर्मा ने कहा कि रिसर्च ऐसी है, जैसा बीज होता है, वैसा फल मिलता है। इसलिए बहुत अच्छी तरह सोच-विचार से इसकी शुरूआत होनी चाहिए। सेमिनार के संयोजक व डायरेक्टर (एकेडमिक एंड रिसर्च) डॉ. प्रवीण कुमार शर्मा, परीक्षा नियंत्रक डॉ. राजेंद्र गोदारा, आयोजन सचिव डॉ. रितु बाला, होम्योपैथी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. चरणजीत सिंह एवं आयुर्वेद कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुभाष उपाध्याय ने प्रारम्भ में अतिथियों का स्वागत किया, शाल ओढ़ा कर प्रतीक चिन्ह भेंट किया गया।
बीकानेर की महाराजा गंगासिंह यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. विनोद कुमार सिंह के मुख्य आतिथ्य में शुरू हुए इस राष्ट्रीय सेमिनार में देश भर के उच्च शिक्षा से जुड़े शिक्षकों एवं विद्यार्थियों ने भाग लिया। इसमें अनुसंधान से जुड़े तमाम पहलूओं पर विषय विशेषज्ञों के व्याख्यान हुए। अनुसंधान के लिए समस्या की पहचान और प्रस्ताव, सांख्यिकी आंकड़े, मौखिक प्रस्तुति, अनुसंधान के आचार विचार, प्रभावी प्रस्तुतिकरण, प्रूफ  रीडिंग, नियम आदि के बारे में उपयोगी जानकारी दी गई। सफल आयोजन में रिसर्च डिपार्टमेंट के इंद्रजीत सिंह, विक्रम मेहरा आदि की विशेष भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.