राजकीय मेडिकल काॅलेज को लेकर हुई बैठक एमसीआई की गाईडलाइन व भावी जरूरतों को ध्यान में रखेंः जिला कलक्टर

राजकीय मेडिकल काॅलेज को लेकर हुई बैठक
एमसीआई की गाईडलाइन व भावी जरूरतों को ध्यान में रखेंः जिला कलक्टर

श्रीगंगानगर, 3 जुलाई।

जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने कहा कि राजकीय मेडिकल काॅलेज निर्माण को लेकर एमसीआई की गाईडलाइन तथा भावी जरूरतों को ध्यान में रखने के साथ-साथ गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाये।

जिला कलक्टर शनिवार को कलेक्ट्रेट सभाहाॅल में राजकीय मेडिकल काॅलेज निर्माण को लेकर अंतरविभागीय बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। यह बैठक मेडिकल काॅलेज निर्माण व जिला चिकित्सालय का अपग्रेडेशन को लेकर आयोजित हुई। बैठक में बताया कि 27.15 एकड़ भूमि मेडिकल काॅलेज के लिये है, जिसमें 44 बीघा में जिला चिकित्सालय निर्मित है। बैठक में चर्चा हुई कि पुराने जर्जर व खराब हालत के क्वार्टर हटाये जायेंगे। जिला कलक्टर ने कहा कि जमीन के वाॅटर लेवल का ध्यान रखा जाये तथा वाॅटर लेवल की दुबारा जांच कर लेवें। ऐकेडमिक ब्लाॅक फेज प्रथम के अलावा गल्र्स व बाॅयज हाॅस्टल के निर्माण को लेकर चर्चा हुई। जिला कलक्टर ने कहा कि आवश्यक पार्किंग की व्यवस्था भी की जाये।


बैठक में मेडिकल काॅलेज को स्वच्छ फिल्टर पानी पेयजल विभाग उपलब्ध करवायेगा तथा इसके लिये अलग से पम्प हाउस का निर्माण किया जायेगा। मेडिकल काॅलेज, छात्रावास इत्यादि में 500 केएलडी पानी की आवश्यकता रहेगी। प्रावधान के अनुसार सभी ब्लाॅक की छतों पर सोलर सिस्टम स्थापित होगा। छात्रों के लिये खेल सुविधा भी विकसित की जायेगी। इसी प्रकार मेडिकल काॅलेज को पर्याप्त विधुत आपूर्ति को लेकर जेवीवीएनएल के अधिकारियों से चर्चा हुई तथा मेडिकल काॅलेज को 500 केवी लोड की जरूरत रहेगी। बैठक में बताया गया कि मेडिकल काॅलेज क्षेत्र में 9 मीटर, 12 मीटर तथा 15 मीटर चैड़ाई की सड़के बनेगी।
अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन भवानी सिंह पंवार ने कहा कि मेडिकल काॅलेज में पार्किंग, खेल का प्रावधान होना चाहिए। मेडिकल काॅलेज को दी गई 8 बीघा भूमि में खेल काॅम्पलेक्स बनाने पर चर्चा हुई। मेडिकल काॅलेज की डेªेनेज व्यवस्था भावी जरूरतों को देखते हुए बनाई जाये।
कंसलटेंट रमेश माथुर ने पीपीटी के माध्यम से विस्तृत जानकारी दी। मेडिकल काॅलेज के नोडल अधिकारी अभिषेक क्वात्रा ने भी भावी जरूरतों एवं गाईडलाईन के अनुसार भवन निर्माण पर चर्चा की।
बैठक में न्यास सचिव डाॅ.हरितिमा, एसडीएम उम्मेद सिंह रतनु, पेयजल विभाग के अधीक्षण अभियंता वीरेन्द्र कुमार बलाना, जेवीवीएनएल के अधीक्षण अभियंता जे.एस.पन्नू, पीडब्ल्यूडी के अधीक्षण अभियंता सुमन मिनोचा, पीएमओ डाॅ. बलदेव सिंह, आरसीएचओ डाॅ. एचएस बराड़, आरएसआरडीसी के पीडी बी.एस.स्वामी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.