जन सेवा हॉस्पिटल में महीने भर वेंटिलेटर पर रही युवती स्वस्थ होकर घर लौटी

जन सेवा हॉस्पिटल में महीने भर वेंटिलेटर पर रही युवती स्वस्थ होकर घर लौटी
अत्याधुनिक विश्वस्तरीय सुविधायुक्त आईसीयू का मिला लाभ

11 अगस्त 20121 श्रीगंगानगर

डॉ. एस.एस. टांटिया एमसीएच एंड रिसर्च सेंटर (जन सेवा हॉस्पिटल) में महीने भर वेंटिलेटर पर रही युवती स्वस्थ होकर अपने घर लौटी है। मुख्य प्रशासनिक अधिकारी बलजीत सिंह कुलडिय़ा ने बताया कि पंजाब के गांव कुलार की लगभग 32 वर्षीय इस युवती की जान मुश्किलों के भंवर में थी, अनेक तरह की जटिलताएं थीं, हॉस्पिटल के जनरल मेडिसिन विभाग के डॉ. राकेश सहारण (एमडी मेडिसन), डॉ. धीरज गोदारा एमएस, एमसीएच (न्यूरो सर्जरी) एवं टीम के प्रयास सफल हुए, उसे अत्याधुनिक विश्वस्तरीय सुविधायुक्त आईसीयू का लाभ मिला। रोगी छुट्टी मिलने के बाद परिवार के साथ प्रसन्नता से वापिस लौट गई है।
मरीज को जब जन सेवा हॉस्पिटल में लाया गया तब उसके लकवा था,चारों हाथ-पांव में कोई हलचल नहीं थी। श्वांस की दिक्कत होने के कारण छाती का सीटी स्केन करवाया गया तो फेफड़ों में कोविड पाया गया, सिर का सीटी स्केन भी करवाया गया। नाड़ी ब्लॉक होने से तत्काल गले में छेद कर वेंटिलेटर पर लिया गया। लगभग 40 दिन तक वेंटिलेटर पर रखा गया, दवाइयां जारी रखी गई। डॉ. सहारण एवं डॉ. गोदारा के अलावा फिजियोथेरेपिस्ट, नर्सिंग ऑफिसर रणजीत, राजेश, आईसीयू के स्टाफ के सामूहिक प्रयास की बदौलत मरीज के हाथ-पांव काम करने लगे हैं, बोलने लगी है और थोड़ा-बहुत खाने भी लगी है। मरीज की मौसी ने चिकित्सकों एवं पूरी टीम की तारीफ करते हुए कहा कि वास्तव में एक तरह से नया जीवन दान मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.