श्रीगंगानगर के जन सेवा हाॅस्पिटल ने सेवा कार्यों से जन-जन से पाई सराहना कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भी जारी रखा समर्पण भाव मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना में 125 से अधिक का हो चुका निःशुल्क इलाज

श्रीगंगानगर के जन सेवा हाॅस्पिटल ने सेवा कार्यों से जन-जन से पाई सराहना
कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भी जारी रखा समर्पण भाव
मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना में 125 से अधिक का हो चुका निःशुल्क इलाज

श्रीगंगानगर, 17 जून। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान श्रीगंगानगर क्षेत्र में जन सेवा हाॅस्पिटल के नाम से लोकप्रिय डाॅ. एस. एस. टांटिया एमसीएच एंड रिसर्च सेंटर ने अपने सेवा कार्यों से जन-जन की सराहना प्राप्त की है। इस अवधि में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतर्गत 125 से अधिक मरीजों का निःशुल्क इलाज हो चुका है। विशेषज्ञ चिकित्सकों की उपलब्धता एवं अत्याधुनिक सुविधाओं वाले हाॅस्पिटल के निदेशक डाॅ. मोहित टांटिया ने सभी की अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिए खूब परिश्रम किया। साथ ही मुख्य प्रशासनिक अधिकारी बलजीत सिंह कुलडिया, जनरल मैनेजर डाॅ. विकास सचदेवा एवं पूरी टीम जुटी रही। यहाँ सिर्फ डाॅक्टर ही नहीं बल्कि पूरा स्टाफ प्रशिक्षित है व बेहद डेडिकेशन के साथ मरीजों की सेवा में दिन रात जुटा रहता है। जनसेवा हाॅस्पिटल में कोरोना मरीजों के लिए अलग से कोविड ब्लाॅक बनाया हुआ है। इसमें सरकारी एडवाइजरी की पालना करते हुए इलाज किया जा रहा है। सामान्य वार्ड एवं आईसीयू वार्ड में जरूरत के हिसाब से सभी उपकरण आदि उपलब्ध हैं। यह हाॅस्पिटल जिले में निजी क्षेत्रा का एकमात्र ऐसा हाॅस्पिटल है, जहां कोरोना जांच की लैब काम कर रही है, यहां सीटी स्कैन, एमआरआई सहित तमाम तरहकी जांचों की व्यवस्था भी है।
सामाजिक कार्यों में भी महत्वपूर्ण योगदान

जिले में सामाजिक सरोकारों में सक्रिय भूमिका निभाते हुए कोरोना संबंधी जागरुकता का अभियान टांटिया समूह ने चलाया है। इसके तहत सरकारी एडवाइजरी की पालना के बारे में पर्चों के अलावा मास्क, इम्यूनिटी बूस्टर का वितरण किया गया। लाॅक डाउन के दौरान निःशुल्क टेली मेडिसिन सेवा जारी रखी गई। पुलिस चैकियों आदि को सेनिटाइज करवाया गया। सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के सहयोग से नुक्कड़ नाटक का मंचन भी करवाया गया।
पहले से ही जनसेवा हाॅस्पिटल परामर्श शुल्क सिर्फ 10 रुपए एवं मरीज को भर्ती करने पर प्रतिदिन का केवल 20 रुपए शुल्क लेने के कारण अपनी विशिष्ट पहचान रखता है। इसके विशाल भवन में स्वच्छता आदि का पूरा ध्यान रखा जाता है, मरीजों, परिजनों के लिए भोजन शाला, लिफ्ट सहित अन्य जरूरी सुविधाएं इसमें है।
भारतीय सेना ने भी जताया भरोसा, दक्षिण पश्चिमी कमान कोविड सुविधा शुरू की
डाॅ. एस. एस. टांटिया एमसीएच एंड रिसर्च सेंटर (जन सेवा हाॅस्पिटल) पर भारतीय सेना ने भी भरोसा जताया और संयुक्त संयोजन में 50 बेड की दक्षिण पश्चिमी कमान कोविड सुविधा शुरू की। आज पूरे जिले में व आस पास के भी कई क्षेत्रों से यहाँ मरीज आते हैं और बेहतरीन इलाज सुविधा पाकर अधिकतर मरीज स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं।


मेजर जनरल विक्रम वर्मा (वीएसएम), बिग्रेडियर ए.एस. मांगट, जिला कलक्टर जाकिर हुसैन, पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यंत, अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) भवानी सिंह पंवार, उपखण्ड अधिकारी उम्मेद सिंह रतनू, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. जी.एल. मेहरड़ा सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारियों ने समय-समय पर हाॅस्पिटल की व्यवस्थाओं को देखा और प्रोत्साहित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.