संविधान से सर्वांगीण विकास का मार्ग प्रशस्त टांटिया यूनिवर्सिटी में नैशनल सेमिनार सम्पन्न कई राज्यों के प्रतिभागियों ने लिया भाग

संविधान से सर्वांगीण विकास का मार्ग प्रशस्त
टांटिया यूनिवर्सिटी में नैशनल सेमिनार सम्पन्न
कई राज्यों के प्रतिभागियों ने लिया भाग
श्रीगंगानगर। टांटिया यूनिवर्सिटी में विधि संकाय की तरफ से संविधान दिवस के उपलक्ष्य में ‘भारतीय संविधान-एक प्रेरणा, आकांक्षाएं और वर्तमान समय की चुनौतियांÓ विषयक दो दिवसीय नैशनल सेमिनार रविवार शाम सम्पन्न हुई। समापन सत्र में वरिष्ठ विधि विशेषज्ञ डॉ. बीएस निर्वाण मुख्य अतिथि, महाराजा गंगासिंह यूनिवर्सिटी, बीकानेर के डीन डॉ. भगवानाराम बिश्नोई सम्मानीय अतिथि, श्रीगंगानगर के राजकीय विधि महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. विश्वनाथ सिंह विशिष्ट अतिथि थे, अध्यक्षता टांटिया यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष प्रो. (डॉ.) एम. एम. सक्सेना ने की।


वक्ताओं ने कहा कि संविधान सर्वांगीण विकास का मार्ग प्रशस्त करता है, सर्वोच्च न्यायालय इसकी गरिमा को बनाए हुए है। लोकतंत्र को जिन्दा रखने के लिए संविधान की रक्षा आवश्यक है, इस पर आंच आए तो सतर्क रहना होगा। इस सत्र की शुरूआत में सेमिनार के समन्वयक लॉ संकाय के डीन डॉ. सौरभ गर्ग ने स्वागत किया, आयोजन सचिव डॉ. संदीप कौर ने रिपोर्ट प्रस्तुत की। राजेंद्रसिंह कैप्टन ने आभार जताया। डॉ. संदीप कौर एवं मेधा वैद ने संचालन किया। उल्लेखनीय सेवाओं के लिए राजेंद्रसिंह कैप्टन को विशेष रूप से सम्मानित किया गया।
पहले दिन उद्घाटन सत्र में सुप्रीम कोर्ट के अतिरिक्त महान्यायाभिकत्र्ता (एडिशनल सॉलिस्टर जनरल) जयंत के सूद मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे, उन्होंने एवं बठिंडा की सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ पंजाब के स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के डीन प्रो. (डॉ.) तरूण अरोड़ा एवं अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रो. (डॉ.) मोहम्मद तारीक ने अशोक स्तम्भ के स्मारक का अनावरण भी किया। सेमिनार मे राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, दिल्ली सहित अनेक राज्यों के प्रतिभागियों ने काफी संख्या में भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *